New answers tagged

-1

True Dharma and Guru always teach to not discriminate on basis of birth. नीच ऊँच नहिं देख पेख सब एक पसारा । नहिं ब्राह्मण नहिं शूद्र नहीं क्षत्री कोइ न्यारा ॥ नहीं वैस की जात सकल घट एक पसारा । अरे हांरे तुलसी जो कर जाने दोय खोय तिन जनम बिगारा ॥ - सन्त तुलसीदास ऊँच नीच का भेद मत करो क्योंकि सब एक मालिक के पैदा किये हुए है। न कोई ब्राह्मण है न कोई शूद्र और न ...


Top 50 recent answers are included